Attention! Please enable Javascript else website won't work as expected !!

Daily Tippani | Shrinathji Temple, Nathdwara

Tithi Tippani Date Shringar Utsav
Duj, 2076, Kartik, Shukla Paksh 29-Oct-2019 वस्त्र:-घेरदार बागा,चोली,सुथन सब लाल खिनखाब के।चीरा सुनहरी,फुलक साही जरी को।पटका रूपहरी जरी को,एक छोर आगे,एक बगल को।ठाड़े वस्त्र चिकने(लट्ठा)के।पिछवाई लाल ,मोतीं के काम की,नि. ली.गोस्वामी श्री गोवर्धन लाल जी महाराज की। आभरण:-श्रंगार हल्के। आभरण सब पन्ना के, उत्सव के।चार माला,चीरा पे सिरपेच की जगह पन्ना धरावे।वाके ऊपर नीचे मोतीं की माला धरावे। श्रीमस्तक पे एक मोर चन्द्रिका सादा।वेणु वेत्र हीरा के। पट गोटी जडाऊ। यम द्वतीया ,भाई दूज को त्यौहार।
Tij, 2076, Kartik, Shukla Paksh 30-Oct-2019 वस्त्र:-घेरदार बागा,सुथन,चोली,छज्जेदार पाग, सब लाल सलीदार जरी के।ठाड़े वस्त्र हरे। आभरण:-सब हरे मीना के।। हल्के श्रृंगार।श्रीकर्ण में मीना के कर्णफूल, एक जोड़ी धरावे।श्रीमस्तक पे कतरा,चंद्रिका।वेणु वैत्र हरे मीना के।पट लाल,गोटी मीना की।
Choth, 2076, Kartik, Shukla Paksh 31-Oct-2019 वस्त्र:-चोली,चागदार बागा, सुथन केसरी जरी के।पटका मलमल को। श्रीमस्तक पे छाजजेदार पाग। पिछवाई वस्त्र जैसी।ठाड़े वस्त्र स्याम। आभरण:-छेड़ान के श्रृंगार।माणक के आभरण। कमल माला धरावे।श्रीमस्तक पे जमाव को कतरा।श्रीकर्ण में कर्णफूल, दो जोड़ी।वेणु वैत्र लाल मीना के,एक सोना को।पट केसरी,गोटी मीना की। आरती पीछे श्री कंठ के श्रृंगार बड़े करके ,हलके श्रृंगार धराने।लूम तुर्रा रूपहरी।
Pancham, 2076, Kartik, Shukla Paksh 01-Nov-2019 वस्त्र:-चागदार बागा,चोली,सुथन ,टिपारा सब लाल जरी के।पटका लाल मलमल को। ठाड़े वस्त्र पिले।पिछवाई चित्राम की,गोवर्धन धारण की। आभरण:-श्रृंगार बनमाला के।सब आभरण हरे मीना के। कस्तूरी,कली व कमल माला धरावे।श्रीकर्ण में कुंडल।श्रीमस्तक पे मोर चन्द्रिका व दोनों कतरा धरावे।वेणु वैत्र लहरिया के।पट लाल,गोटी चाँदी की बाघ बकरी की। आरती पीछे श्रीकंठ के श्रृंगार बड़े करके,छेड़ान के धरावे।शयन के दर्शन में टिपारा रहे।इसलिए लूम तुर्रा नहीं आवे।
Chhath, 2076, Kartik, Shukla Paksh 02-Nov-2019 वस्त्र,आभरण सब इच्छानुसार वस्त्र:-घेरदार बागा,चोली,सुथन सब फिरोजी जरी के।पटका मलमल को।पाग गोल।ठाड़े वस्त्र लाल।पिछवाई वस्त्र जैसी जरी की। आभरण:-हल्के श्रृंगार। आभरण ग़ुलाबी मीना के।श्रीमस्तक पे गोल चन्द्रिका।श्रीकर्ण में कर्णफूल, एक जोड़ी।वेणु वैत्र गुलाबी मीना के।पट फिरोजी,गोटी चाँदी की। आरती पीछे श्रीकंठ के श्रृंगार बड़े करने।लूम तुर्रा रूपहरी।
Satam, 2076, Kartik, Shukla Paksh 03-Nov-2019 वस्त्र,आभरण सब इच्छानुसार। वस्त्र:-चागदार बागा,चोली,सुथन कत्थाई जरी के।श्रीमस्तक पे ग्वाल पगा। पटका मलमल को।ठाड़े वस्त्र अमरसी। आभरण:- सब हरे मीना के।छेड़ान के श्रृंगार। कमल माला धरावे।श्रीकर्ण में लोलक बिंदी।श्रीमस्तक पे पगा चंद्रिका धरावे।वेणु वैत्र हरे मीना के।पट कत्थाई,गोटी चाँदी की बाघ बकरी। आरती पीछे श्रीकंठ के श्रृंगार बड़े करके हल्के धराने।शयन के दर्शन में पगा रहे । श्री नवनीत प्रभु को व्रज में पधरायवे को विशेष उत्सव ,गो. ति. १०८ श्री इन्द्रदमनजी (श्री राकेशजी) महाराज कृत (२०६३) |
Atham, 2076, Kartik, Shukla Paksh 04-Nov-2019 वस्त्र:-चोली - मेघस्याम दरियाई की।पीताम्बर -लाल दरियाई को। बड़ी काछनी हरी छापा की।छोटी काछनी लाल छापा की।ठाड़े वस्त्र स्वेत लट्ठा(चिकने) के।पिछवाई स्याम धरती पे अलग अलग खाना में कशीदा की स्वेत गाय की। आभरण:-मुकूट टोपी हीरा के।आभरण सब उत्सव के।हीरा की प्रधानता।हीरा, पन्ना,माणक के माला,दुलड़ा,हार आदी धरावे।कली कस्तूरी आदी सब धरावे।वेणु जी,दोनों वेत्र हीरा के।पट काशी को ,गोटी सोना की कूदती भई बाग़ बकरी की।आज चोटीजी नहीं आवे।आरसी चार झाड़ की। आज संध्या आरती में छोटो वेत्र श्रीहस्त में धरावे।आरती पीछे सन्मुख की गाये विदा होवे।दोनों काछनी बड़ी करके मेघस्याम चागदार बागा धरावे।छेड़ान के श्रृंगार होवे।श्रीमस्तक पे लाल कूल्हे व तनी धरावे। गोपाष्टमी |
Navam, 2076, Kartik, Shukla Paksh 05-Nov-2019 वस्त्र,श्रृंगार सब इच्छानुसार। वस्त्र:-घेरदार बागा,चोली,सुथन सब स्याम जरी के।पटका मलमल को।पाग गोल।ठाड़े वस्त्र लाल।पिछवाई वस्त्र जैसी जरी की। आभरण:-हल्के श्रृंगार। आभरण फिरोजा के।श्रीमस्तक पे गोल चन्द्रिका।श्रीकर्ण में कर्णफूल, एक जोड़ी।वेणु वैत्र चाँदी के।पट स्याम,गोटी चाँदी की। आरती पीछे श्रीकंठ के श्रृंगार बड़े करने।लूम तुर्रा रूपहरी। अक्षय नवमी |
Navam, 2076, Kartik, Shukla Paksh 06-Nov-2019 वस्त्र,श्रृंगार सब इच्छानुसार। वस्त्र:-घेरदार बागा,चोली,सुथन सब स्याम जरी के।पटका मलमल को।पाग गोल।ठाड़े वस्त्र लाल।पिछवाई वस्त्र जैसी जरी की। आभरण:-हल्के श्रृंगार। आभरण फिरोजा के।श्रीमस्तक पे गोल चन्द्रिका।श्रीकर्ण में कर्णफूल, एक जोड़ी।वेणु वैत्र चाँदी के।पट स्याम,गोटी चाँदी की। आरती पीछे श्रीकंठ के श्रृंगार बड़े करने।लूम तुर्रा रूपहरी।
Dasham, 2076, Kartik, Shukla Paksh 07-Nov-2019 उत्सव के आगम के श्रृंगार।
Gyaras, 2076, Kartik, Shukla Paksh 08-Nov-2019 देव प्रबोधनी देव दिपावली ,चागदार बागा,सुथन सब सुनहरी जरी के ।पटका रूपहरी जरी को।कूल्हे व मोजाजी ,जडाऊ गोकुलनाथजी के।ठाड़े वस्त्र मेघ स्याम।पिछवाई स्याम मखमल की,विद्रुम के फूल व जाल की। आभरण उत्सव के। बनमाला को हीरा की प्रधानता। चोटिजी हीरा की। श्रीमस्तक पे पांच मोर चन्द्रिका को जोड़ धरावे।वेणु वेत्र तीनो हीरा के।हीरा को चौखटा आवे।पट उत्सव को,गोटी जडाऊ। प्रबोधनी एकादशी व्रतम्, देवोत्थापन सायं संध्या में |
Gyaras, 2076, Kartik, Shukla Paksh 08-Nov-2019 देव प्रबोधनी(देव दिपावली) वस्त्र:-चोली,चागदार बागा,सुथन सब सुनहरी जरी के ।पटका रूपहरी जरी को।कूल्हे व मोजाजी ,जडाऊ गोकुलनाथजी के।ठाड़े वस्त्र मेघ स्याम।पिछवाई स्याम मखमल की,विद्रुम के फूल व जाल की। आभरण:- उत्सव के। बनमाला को हीरा की प्रधानता। चोटिजी हीरा की। श्रीमस्तक पे पांच मोर चन्द्रिका को जोड़ धरावे।वेणु वेत्र तीनो हीरा के।हीरा को चौखटा आवे।पट उत्सव को,गोटी जडाऊ। प्रबोधनी एकादशी व्रतम्, देवोत्थापन सायं संध्या में |
Baras, 2076, Kartik, Shukla Paksh 09-Nov-2019 *प्रथम लालजी श्री गिरधर जी व पंचम लालजी श्री रघुनाथजी को उत्सव* वस्त्र:-चोली,घेरदार बागा,सुथन, चीरा सब सुनहरी लाल जरी के।पटका केसरी मलमल को,अन्तरवास को।ठाड़े वस्त्र मेघस्याम।पिछवाई लाल मखमल पे तीन तीन वृजभक्त व गायन की। आभरण:-सब उत्सव के। बनमाला को श्रृंगार। हीरा की प्रधानता। श्रीमस्तक पे हीरा को सेहरा। दो तुर्री धरावे।लूम मोतीं की।चोटीजी हीरा की।श्रीकंठ में हीरा, पन्ना,मोतीं,माणक के हार, दुलड़ा आदी उत्सव वत धरावे।वेणु वेत्र तीनो हीरा के।आरसी चार झाड़ की। आरती पीछे श्रृंगार,सेहरा बड़ो करनो।छेड़ान के श्रृंगार धराने।टीका सिरपेच धरावे।लूम तुर्रा सुनहरी। श्री गुंसाई जी के प्रथम लालजी श्री गिरधरजी को उत्सव (१५६७) तथा पंचम लालजी श्री रघुनाथजी को उत्सव (१६११) |
Chaudash, 2076, Kartik, Shukla Paksh 10-Nov-2019 वस्त्र:-चोली,चागदार बागा,सुथन ,पिले खिनखाब के।पटका केसरी।मोजाजी लाल खिनखाब के।माणक की जडाऊ कूल्हे।ठाड़े वस्त्र हरे।पिछवाई पिले खिनखाब की,लाल हाशिया की।गद्दल,रजाई पिले खिनखाब के। आभरण:-सब माणक के।बनमाला को श्रृंगार।कली, कस्तूरी आदी सब धरावे।श्रीकर्ण मर माणक के कुंडल।आप श्री को माणक को दुलड़ा धरावे।श्रीमस्तक पे सुनहरी घेरा।वेणु वेत्र लाल मीना के,एक सोना को।पट लाल,गोटी स्याम मीना की।चोटीजी मीना की। आरती पीछे श्रृंगार कूल्हे बड़े करके,केसरी गोल पाग व छेड़ान के श्रृंगार धराने।मोर चन्द्रिका एक की व लूम धरावे। तुर्रा नहीं आवे।
Chaudash, 2076, Kartik, Shukla Paksh 11-Nov-2019 वस्त्र:-चोली,चागदार बागा,सुथन ,पिले खिनखाब के।पटका केसरी।मोजाजी लाल खिनखाब के।माणक की जडाऊ कूल्हे।ठाड़े वस्त्र हरे।पिछवाई पिले खिनखाब की,लाल हाशिया की।गद्दल,रजाई पिले खिनखाब के। आभरण:-सब माणक के।बनमाला को श्रृंगार।कली, कस्तूरी आदी सब धरावे।श्रीकर्ण मर माणक के कुंडल।आप श्री को माणक को दुलड़ा धरावे।श्रीमस्तक पे सुनहरी घेरा।वेणु वेत्र लाल मीना के,एक सोना को।पट लाल,गोटी स्याम मीना की।चोटीजी मीना की। आरती पीछे श्रृंगार कूल्हे बड़े करके,केसरी गोल पाग व छेड़ान के श्रृंगार धराने।मोर चन्द्रिका एक की व लूम धरावे। तुर्रा नहीं आवे। नि. ली.गो.ति.श्री गोविंदजी महाराज को उत्सव (१८७६) |
Punam, 2076, Kartik, Shukla Paksh 12-Nov-2019 *कार्तिक पूनम।* *नि. ली.गो.ति. श्री गोविंदलालजी कृत चार स्वरूप को उत्सव।* वस्त्र:-चोली,चागदार बागा,सुथन रूपहरी जरी के।पटका स्वेत मलमल को। ठाड़े वस्त्र पतंगी(मेघस्याम भी ले हे।)पिछवाई मेघस्याम मखमल पे सिलमा सितारा की,सूरज चन्दा बने है। आभरण:- सब हीरा के।बनमाला को श्रृंगार। कली, कस्तूरी आदी धरावे।कमल माला धरावे।श्रीकर्ण में कुंडल।श्रीमस्तक पे हीरा को खुप व पान धरावे।वेणु वेत्र चाँदी के।पट जरी को,गोटी मोर की। आरती पीछे श्रृंगार बड़े करके छेड़ान के श्रृंगार धराने।गोल पाग धरानी।लूम तुर्रा रूपहरी। चार स्वरूप को उत्सव ,नि. ली.गो. ति. श्री १०८ श्री गोविंद लालजी महाराज कृत, चातुर्मास्य तथा कार्तिक के नियम की समाप्ति,गोपमासाराम्भ |